"अंधकार के सैकड़ों परत हैं। उससे जूझना ही मनुष्‍य का मनुष्‍यत्‍व है। जूझने का संकल्‍प ही महादेवता है।" सांस्कृतिक विचारधारा के प्रमुख उपन्यासकार 'पद्म भूषण' डॉ. हजारी प्रसाद द्विवेदी जी की पुण्यतिथि पर उन्हें विनम्र श्रद्धांजलि! @BJP4UP

Replies